झारखण्ड : मुख्यमंत्री दुमका प्रखंड के पारसिमला और राजबांध में आयोजित जनता आपके द्वार कार्यक्रम में शामिल हुए

रांची : राज्य के सभी गरीबों, वंचितों, किसानों, मजूदरों और जरुरतमंदों को हर हाल में उनका हक मिलेगा. इसमें किसी तरह की कोताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी. इस बाबत अधिकारियों को दिशा निर्देश दे दिए गए हैं. मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन ने आज दुमका जिले के मसलिया प्रखंड स्थित धोबनाहरिण बहाल, सांपचला, कुसुमभट्टा और मोहनपुर पंचायत में आयोजित जनता आपके द्वार कार्यक्रम में ग्रामीणों को संबोधित करते हुए कही. मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ने यह संकल्प लिया है कि 60 साल से ज्यादा उम्र के सभी लोगों क वृद्द्वस्था पेंशन और किसी भी उम्र की विधवा को विधवा पेंशन योजना का लाभ दिया जाएगा. लोगों को सरकार की योजनाओं का लाभ मिले, इसकी कार्ययोजना तैयार कर ली गई है. झारखंड के सर्वांगीण विकास के लिए सरकार प्रतिबद्ध है. इस दिशा में तेजी से कार्य चल रहा है.

समस्याओं को दूरने की पहल शुरू
मुख्यमंत्री ने कहा कि लंबे समय से समस्याएं विद्धमान हैं, उसे दूर करने का कार्य आरंभ कर दिया गया है और निरंतर चलेगा राशन कार्ड में नाम जोड़ने, लाभुकों तक योजनाओं को पहुंचाने. स्वास्थ्य सुविधाओं में विस्तार, लोगों को रोजगार देने समेत राज्य के विकास के लिए सरकार पहल कर रही है. मुख्यमंत्री ने ग्रामीणों से आग्रह किया कि अगर उन्हें किसी तरह की परेशानी है तो इसकी जानकारी प्रशासन को दें. उनकी समस्या दूर की जाएगी. सरकार हर व्यक्ति तक विकास को पहुंचाने के लिए कृत संकल्प है.

कोरोना संकट में राहत पहुंचाने का काम
मुख्यमंत्री ने कहा कि आज पूरी दुनिया कोरोना महामारी से जूझ रही है. लेकिन, हमारी सरकार ने सीमित संसाधनों के साथ कोरोनो को रोकने और बचाव के साथ संक्रमितों के इलाज के लिए बेहतरीन कार्य किया. कोरोना महामारी के बीच लोगों को राहत पहुंचाने का काम सरकार लगातार करती आ रही है. गरीबों और जरुरतमंदों को मुफ्त में अनाज के साथ भोजन देने का अभियान चलाया गया. प्रवासी मजदूरों को हवाई जहाज और ट्रेनों के मार्फत वापस लाया गया. उनके रोजगार की दिशा में लगातार ने कई योजनाएं शुरू की है. हमारी सरकार ने कोरोना से निपटने के लिए बेहतरीन प्रबंधन किया.

कोरोना का खतरा टला नहीं, सतर्कता बरतें_
मुख्यमंत्री ने कहा कि शहरों की तुलना में ग्रामीण इलाकों में कोरोना का प्रभाव कम है, लेकिन हमें सतर्क रहने की जरूरत है. इस महामारी का खतरा अभी टला नहीं है. इसका इलाज भी अभी तक नहीं खोजा जा सका है. ऐसे में इस महामारी से बचाव के लिए सरकार ने जो दिशा निर्देश जारी किए हैं, उसका जरूर पालन करें.

रोजगार उपलब्ध कराने के लिए विस्तृत कार्ययोजना
मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना महामारी ने हमारी अर्थव्यवस्था को बुरी तरह प्रभावित किया है. इस वजह से कई फैक्ट्रियां बंद हो गई हैं. लोगों की नौकरियां चली गई है. बेरोजगारों की संख्या तेजी से बढ़ी है. लाखों प्रवासी मजदूर वापस आए हैं. ऐसे में इन्हें रोजगार उपलब्ध कराने के लिए सरकार ने पहल शुरू कर दी है. मनरेगा के तहत तीन नई योजनाएं चलाई जा रही है तो शहरी श्रमिक रोजगार योजना भी शुरू की जा रही है, ताकि शहरों में रहने वालों को भी रोजगार मिल सके. इस योजना के तहत रोजगार नहीं मिलने पर बेरोजगारी भत्ता देने का भी प्रावधान किया गया है.

महिलाओं को स्वावलंबी व आत्मनिर्भर बनाया जा रहा है
मुख्यमंत्री ने कहा कि महिलाओं को स्वावलंबी और आत्मनिर्भर बनाने के लिए सरकार लगातार प्रयास कर रही है. सखी मंडलों को मजबूत किया जा रहा हैं. उन्हें राशि उपलब्ध कराई जा रही है, ताकि इन मंडलों से जुड़ी महिलाएं खुद अपने पैरों पर खड़ा हो सके.

सरकार आपके द्वार कार्यक्रम के तहत किन-किन परिसंपत्तियों का किया गया वितरण

प्रधानी पट्टा का वितरण- मुख्यमंत्री ने धोबनाहरिण बहाल और पारसिमला पंचायत में आय़ोजित कार्यक्रम में कुछ लोगों को सांकेतिक रुप से प्रधानी पट्टा का वितरण किया.

मुख्यमंत्री सुकन्या योजना- मुख्ममंत्री ने सरकार आपके द्वारा कार्यक्रम के तहत सांकेतिक रुप से बच्चियों को मुख्यमंत्री सुकुन्या योजना के तहत पांच-पांच हजार रुपए प्रदान किए.

निःशक्तों को श्रवण यंत्र का वितरण- मुख्यमंत्री ने धोबनारहिण बहाल में आयोजित कार्यक्रम में सांकेतिक रुप से एक निःशक्त को श्रवण यंत्र प्रदान किया.

प्रधानमंत्री आवास योजना- मुख्यमंत्री ने चारों पंचायतों में कुछ लाभुकों को सांकेतिक रुप से प्रधानमंत्री आवास योजना का स्वीकृति पत्र प्रदान किया. गौरतलब है कि मसलिया अंचल में 1002 लोगों को प्रधानमंत्री आवास योजना से जोड़ा जाना है.

बिरसा आवास और अंबेडकर आवास योजना – मुख्यमंत्री ने लाभुकों को बिरस आवास और अंबेडकर आवास योजना का स्वीकृति पत्र सौंपा

विधवा पेंशन और राज्य आदिम जनजाति पेंशन योजना का मिला लाभ
मुख्यमंत्री ने इन कार्यक्रमों के तहत लाभुकों को विधवा पेंशन और राज्य आदिम जनजाति पेंशन योजना का लाभ प्रदान किया.

स्कूली किट का वितरण- मुख्यमंत्री ने इस मौके पर सरकारी विद्यालयों के बच्चे-बच्चियों के बीच स्कूली किट का वितरण किया. गौरतलब है कि पूरे राज्य के सरकारी विद्यालयों के विद्यार्थियों को स्कूली किट दिया जा रहा है.

बाइक एंबुलेंस का वितरण- मुख्यमंत्री ने धोबनाहरिण बहाल और मोहनपुर पंचायत को बाइक एंबुलेंस सौंपा. उन्होंने कहा कि ग्रामीण इलाकों के मरीजों को बाइक एंबुलेंस से अस्पताल लाने में काफी सहूलियत हो जाएगी.

सिंचाई कूप की स्वीकृति – मुख्यमंत्री ने इस मौके पर लाभुकों को सांकेतिक रुप से सिंचाई कूप का स्वीकृति पत्र प्रदान किया.

बिरसा हरित ग्राम योजना के तहत दिए आम के पौधे
मुख्यमंत्री ने बिरसा हरित ग्राम योजना के सांकेतिक रुप से लाभुकों को आम का पौधा प्रदान किया और उन्हें फलदार वृक्ष लगाने के लिए प्रेरित किया.

केसीसी और स्वॉयल हेल्थ कार्ड – मुख्यमंत्री_ ने किसानों को साकेंतिक रुप से केसीसी योजना के तहत लोन और स्वॉयल हेल्थ कार्ड वितरित किया. उन्होंने कहा कि इससे किसानों को उपज ब़ढ़ाने में मदद मिलेगी.

सखी मंडलों को सौंपी राशि मुख्यमंत्री ने सरकार आपके द्वार कार्यक्रम के तहत सखी मंडलों को राशि सौंपी. इसके तहत धोबनाहरिण बहाल पंचायत में 81 सखी मंडलों को बैंक लिकेंज योजना के तहत इक्कासी लाख रुपए प्रदान किए.

मसलिया में बनाए जा रहे पंद्रह सौ से ज्यादा पशु शेड- मसलिया प्रखंड़ में पंद्रह सौ से ज्यादा पशु शेड बनाए जाने हैं. इस सिलसिले में मुख्यमंत्री ने कई लाभुकों को पशु शेड का स्वीकृति पत्र प्रदान किया.

खिलाड़ियों को खेल किट प्रदान किए- मुख्यमंत्री ने वीर शहीद हो पोटो योजना के तहत सांपचला पंचायत में आयोजित जनता आपके द्वार कार्यक्रम में खिलाड़ियों को फुटबॉल सौंपा

मछली जाल का वितरण- मुख्यमंत्री ने मछली पालन को बढ़ावा देने के लिए मत्स्य पालकों को सांकेतिक रुप से मछली जाल वितरित किया.

नए राशन कार्ड का वितरण- मुख्यमंत्री ने इस मौके पर लोगों के बीच नए राशन कार्ड का वितरण किया है. मुख्यमंत्री ने कहा कि जिन लोगों का राशन कार्ड नहीं है, उन्हें देने के लिए सरकार कदम उठा रही है.

इसके अलावा भी कई औऱ योजनाओं का लाभ लाभुकों के बीच प्रदान किया गया.

जनता आपके द्वार कार्यक्रम के दौरान विधायक श्री स्टीफन मरांडी, बसंत सोरेन, उपायुक्त, पुलिस अधीक्षक समेत कई पदाधिकारी मौजूद थे.

Leave a Reply