315 आंगनबाड़ी केन्द्रों में 3677 बच्चों सहित 417 गर्भवती माताओं को दिया जा रहा गरम भोजन

कंटेनमेंट जोन के अंतर्गत आने वाले आंगनबाड़ी केन्द्र रहेंगे बंद

अर्जुनी – राज्य सरकार के निर्देश पर आंगनबाड़ी केन्द्रों को पुनः खोंलने का निर्णय लिया गया है। कलेक्टर सुनील कुमार जैन के दिशा निर्देश पर 16 सितंबर से जिले के 319 आंगनबाड़ी केन्द्रों में 3677 बच्चों सहित 417 गर्भवती माताओं को गरम भोजन दिया जा रहा है। जिले महिला एवं बाल विकास विभाग के द्वारा 9 परियोजना संचालित है।जिसके अंतर्गत परियोजना बलौदाबाजार में 67, लवन 30,पलारी 47,भाटापारा,50,सिमगा 7,सोनाखान 92,भटगांव 22 आंगन बाड़ी केन्द्रों में गरम भोजन दिया जा रहा है। इसके साथ ही 2 परियोजना कसडोल एवं बिलाईगढ़ के किसी भी आंगनवाड़ी में गरम भोजन का वितरण नही हो है। इन आंगनबाड़ी केन्द्रों में 3 से 6 वर्षो के बच्चों को 16 सितंबर से गरम भोजन दिया जा रहा है। जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला बाल विकास ने बताया कि परियोजना बलौदाबाजार के अंतर्गत 530 बच्चों सहित 40 गर्भवती माताओं उसी तरह लवन में 460 बच्चों एवं 40 गर्भवती माताओं,पलारी में 578 बच्चों एवं 60 गर्भवती माताओं,भाटापारा 458 बच्चों एवं 22माताओं,सिमगा 44 बच्चे साहित 1 गर्भवती माता, सोनाखान में 1455 बच्चों एवं 232 माताओं इसी तरह भटगांव परियोजना के अंतर्गत 152 बच्चों सहित 22 माताओं को गरम भोजन दिया जा रहा है। गौरतलब है की राज्य शासन के निर्देशानुसार बच्चों एवं गर्भवती माताओं के पोषण को ध्यान में रखते हुए 15 सितम्बर से आंगनबाड़ी केन्द्रों का संचालन आरंभ किया गया है।
विशेष सावधानी एवं सुरक्षा रखते हुए आंगनबाड़ी केन्द्रों में 3 से 6 वर्ष तक के बच्चों एवं गर्भवती माताओं को गरम भोजन दिया जा रहा है। इसके साथ ही कंटेनमेंट जोन के अंतर्गत आने वाले आंगनबाड़ी केन्द्रों को बंद रखने का निर्देश दिया गया हैं।आंगनबाड़ी केन्द्र को खोंलने से पूर्व सेनेटाईज किया गया है एवं हितग्राहियों को हाथ धुलवाने के बाद ही केन्द्र में प्रवेश दिया जा रहा है। इन आंगनबाड़ी केन्द्रों में सामाजिक दूरी का पालन करते हुए बच्चों एवं गर्भवती माताओं को भोजन दिया जा रहा है। एक साथ अधिक लोग केन्द्र में प्रवेश न करें, इसके लिए हितग्राहियों को अलग-अलग समय पर बुलाया जा रहा है। खाना बनाते समय भी बर्तन को स्वच्छता से धोना एवं अन्य सुरक्षात्मक उपायों को अपनाया जा रहा है।कोविड-19 संक्रमण चलते आंगनबाड़ी केन्द्रों को बंद रखा गया था और इस दौरान जिले के आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने तत्परता एवं सक्रियता से सेवाएं देते हुए शहरी एवं ग्रामीण अंचलों तक टेक होम राशन का वितरण किया गया था। जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास अधिकारी श्रीमती संजूला शर्मा प्रकाश,परियोजना अधिकारी एवं सेक्टर पर्यवेक्षक द्वारा सतत मॉनिटरिंग की जा रही है। इसके साथ बच्चों के अभिभावकों से चर्चा कर आंगनबाड़ी केन्द्रों का संचालन किया जा रहा है। बच्चे के बीमार होने की स्थिति में बच्चे को घर पर रहने एवं स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखने के लिए लगातार बताया जा रहा है। साथ ही घर के अन्य सभी सदस्यों को कोविड-19 के प्रोटोकॉल का पालन करने के लिए निरंतर जागरूक किया जा रहा है।

Leave a Reply