रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने डिफेंस इंडिया स्‍टार्ट अप चैलेंज-4 लॉन्‍च किया

नई दिल्ली : रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने इनोवेशन फॉर डिफेंस एक्सीलेंस (आईडीईएक्‍स) इकोसिस्टम के आकाश के घेरे का विस्तार करने के उद्देश्य से की गई पहल के साथ आईडीईएक्‍स कार्यक्रम के दौरान डिफेंस इंडिया स्टार्टअप चैलेंज (डिस्‍क 4) को लॉन्च किया। कार्यक्रम के दौरान रक्षा मंत्री ने आईडीईएक्‍स4फौजी पहल और उत्पाद प्रबंधन दृष्टिकोण (पीएमए) दिशा-निर्देश भी जारी किए। इनमें से प्रत्येक पहल से कार्यक्रम को गुणात्मक और मात्रात्मक रूप से बढ़ाने के लिए आईडीईएक्‍स-डीआईओ सुविधा की उम्मीद है।

आईडीईएक्‍स4फौजी अपनी तरह की पहली पहल है, जो भारतीय सशस्त्र बलों के सदस्यों द्वारा पहचाने गए नवाचारों को सहयोग देने के लिए शुरू की गई है और यह सैनिकों / क्षेत्र की रचना से किफायती नवोन्‍मेष विचारों को संभालेगा। मैदान में और सीमाओं पर 13 लाख से अधिक सेवा कर्मी काम कर रहे हैं, अत्‍यन्‍त कठिन परिस्थितियों का निर्वाह कर रहे हैं और उपकरणों को संभाल रहे हैं। इस तरह के उपकरणों को बेहतर बनाने के लिए उनके पास अनेक विचार और नवीन अविष्‍कार हो सकते हैं। इस तरह के नवीन अविष्‍कारों का सहयोग करने के लिए कोई तंत्र नहीं था। आईडीईएक्‍स4फौजी इस खिड़की को खोलेगा और हमारे फौजियों को नवाचार प्रक्रिया का हिस्सा बनने और मान्यता देने और पुरस्कृत करने की अनुमति देगा। सेवा मुख्यालय अधिकतम भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए पूरे देश में सैनिकों और क्षेत्र संरचनाओं को सहायता प्रदान करेगा।

इस अवसर पर, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि आईडीईएक्‍स पहल हमारे देश में बनाई गई सबसे प्रभावी और अच्छी तरह से क्रियान्वित रक्षा स्टार्टअप इकोसिस्टम में से एक के रूप में सामने आती है और यह एक आत्मनिर्भर अभियान की दिशा में एक निर्णायक कदम होगा। श्री राजनाथ सिंह ने कहा, पहली बार देश में ऐसा माहौल बना है जब रक्षा क्षेत्र में नवाचारों को आगे बढ़ाने के लिए विभिन्न हितधारकों को एक साथ लाया गया है। रक्षा मंत्री ने कहा, “हमारी रक्षा प्रणाली को और मजबूत बनाने और इसे आत्मनिर्भर बनाने के लिए निजी क्षेत्र की भागीदारी भी महत्वपूर्ण है। इसके लिए हमने कुछ कदम उठाए हैं जैसे निजी क्षेत्र के साथ भागीदारी, प्रौद्योगिकी हस्तांतरण, स्वचालित मार्ग के माध्यम से 74% एफडीआई और हाल ही में अनुबंधित अवधि के बाद आयात पर प्रतिबंध लगाने के लिए जारी की गई 101 वस्तुओं की नकारात्मक सूची शामिल है।” रक्षा मंत्री ने यह भी कहा कि कल ही सरकार ने रक्षा अधिग्रहण प्रक्रिया 2020 शुरू की, जो निजी क्षेत्र को रक्षा क्षेत्र में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करना चाहती है। रक्षा मंत्री ने सशस्त्र बलों को ”रक्षा नवाचार संगठन (डीआईओ) मंच का पूरा उपयोग करने के लिए अपनी तकनीकी आवश्यकताओं और भारतीय स्टार्टअप को इस अवसर का उपयोग करने के लिए हमारे रक्षा दूतों का अभिन्न अंग बनने के लिए प्रेरित किया। ”

कार्यक्रम को रक्षा राज्य मंत्री श्री श्रीपद येसो नाइक, चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत, रक्षा सचिव डॉ. अजय कुमार और रक्षा उत्पादन विभाग के सचिव राजकुमार ने संबोधित किया।

डिफेंस इंडिया स्टार्टअप चैलेंज (डिस्‍क) 4 के तहत, सशस्त्र बलों, ओएफबी और डीपीएसयू की ग्यारह चुनौतियों को संभावित स्टार्टअप्स, इनोवेटर्स, एमएसएमई के लिए समान रूप से खोल दिया गया, ताकि वे प्रौद्योगिकियों पर अपने अभिनव विचार प्रदान कर सकें रों को प्रदान करने के लिए समान हैं जिसे रक्षा क्षेत्र में प्रयोग के लिए ढूंढ निकाल गया है। चुनौतियां इस प्रकार हैं:

स्‍वतंत्र अंतर्जलीय समूह ड्रोन
भविष्यसूचक, निवारक और निर्देशात्‍मक मशीन निगरानी
स्थान संबंधी संकल्प में सुधार के लिए शानदार संकल्प
एआई आधारित सैटेलाइट इमेज एनालिसिस
वायुमंडलीय दृश्यता की भविष्यवाणी और पूर्वानुमान
वर्चुअल प्रशिक्षण के लिए कंप्यूटर में तैयार लक्ष्‍य
विमान में चालक दल के सदस्‍यों की रिमोट रियल टाइम विमान के भीतर स्‍वास्‍थ्‍य निगरानी
एमएफ-टीडीएमए वाइडबैंड सेटकॉम मॉडेम
पत्तियों के गुच्‍छे के बीच लगे रेडार
नौसैनिक युद्धपोतों के आरसीएस में कमी
फूस के माहौल में लक्ष्य का पता लगाना

एक ‘सही उत्पाद और उत्पाद सही’ विकसित करने के लिए, डीआईओ ने बाजार के लिए तैयार उत्पाद का प्रोटोटाइप विकसित करने अनुकरण करने के लिए उत्पाद प्रबंधन दृष्टिकोण अपनाया है। ये दिशा-निर्देश अपनी तरह के पहले हैं और रक्षा मंत्रालय द्वारा इन्‍हें सेवाओं / डीपीएसयू/ ओएफबी द्वारा निर्धारित आवश्यकताओं हेतु आईडीईएक्‍स विजेताओं द्वारा हासिल उत्पाद विकास की महत्‍वपूर्ण अवस्‍था पर निगरानी रखने के लिए जारी किया गया है।

रक्षा उत्पादन विभाग की आईडीईएक्‍स पहल को अप्रैल 2018 में प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा भारतीय रक्षा क्षेत्र में नवाचारों को प्रोत्साहित करने और विकसित करने के उद्देश्य से शुरू किया गया था और एक इकोसिस्‍टम का निर्माण किया गया था जहाँ स्टार्टअप, एमएसएमई और व्यक्तिगत नवाचारकर्ता भारतीय रक्षा प्रतिष्‍ठानों के साथ आसानी से बातचीत कर सकते हैं और नवीन समाधानों के सह-विकास और सह-उत्पादन के माध्यम से परिचालन वातावरण में अनुभव की गई विशिष्ट चुनौतियों के लिए नवीनतम तकनीकी नवाचार प्रदान करते हैं। आईडीइएक्‍स की पहल रक्षा नवोन्‍मेष संगठन, डीपीएसयू, बीईएल और एचएएल की सेक्शन 8 कंपनी द्वारा निष्पादित की जाती है।

डीआईओ ने 2018 में अपनी स्थापना के बाद से अपनी गतिविधियों का विस्तार किया है:

आईडीइएक्‍स- डीआईओ ने सशस्त्र बलों, डीपीएसयू और ओएफबी के 18 समस्या बयानों के साथ डिफेंस इंडिया स्टार्टअप चैलेंज (डिस्‍क) के तीन राउंड लॉन्च किए हैं और तकनीकी क्षेत्रों में नवप्रवर्तन अनुदान प्राप्त करने के लिए 55+ स्टार्ट-अप्स / व्यक्तियों की पहचान की है, जिन्हें “सपोर्ट फॉर प्रोटोटाइप और रिसर्च किकस्टार्ट”(स्‍पार्क) कहा जाता है जो प्रोटोटाइप विकास के लिए कई किश्तों के माध्यम से महत्‍वपूर्ण अवस्‍था के आधार पर स्टार्टअप्स को 1.5 करोड़ रुपये तक के अनुदान का प्रावधान करता है।

डीआईओ ने देश के प्रमुख इनक्यूबेटरों के साथ रणनीतिक साझेदारी में प्रवेश किया है और विशेष रूप से अमेरिका में डिफेंस इनोवेशन यूनिट (डीआईयू) के साथ अंतरराष्ट्रीय सहयोग किया है।

प्रभावी ढंग से गतिविधियों को आगे बढ़ाने के लिए, डीआईओ श्रमिकों को काम पर रख रहा है, आगे बढ़ रहा है, खुद की वेबसाइट (www.idex.gov.in) और पोर्टल शुरू किया है, स्‍वत: नवीन अविष्‍कार करने, स्पार्क II दिशानिर्देशों और एक प्रशिक्षण कार्यक्रम का समर्थन करने के लिए खुली चुनौती के 2 चक्र लॉन्‍च किए। साथ ही विस्तृत दिशानिर्देश और मानक संचालन प्रक्रिया को बढ़ावा दिया।

डीडीपी के पास देश में रक्षा उत्पादन के स्तंभ के रूप में 9 रक्षा सार्वजनिक उपक्रम हैं और आईडीइएक्‍स ने नवाचार और अनुसंधान और विकास की संस्कृति को विकसित करके डीपीएसयू में क्षमता निर्माण को सक्षम किया है।

आईडीइएक्‍स कार्यक्रम सफलतापूर्वक एक ही मंच पर आईडीइएक्‍स के हितधारकों यानी रक्षा मंत्रालय (एमओडी), आईडीइएक्‍स चयनित स्टार्टअप्स, पार्टनर इनक्यूबेटर्स, डिफेंस इनोवेशन ऑर्गनाइजेशन (डीआईओ), नोडल एजेंसियां ​​(भारतीय सेना, भारतीय नौसेना, भारतीय वायु सेना), नीति आयोग, डीआरडीओ, डीपीएसयू, ओएफबी, थिंक टैंक, निजी उद्योग और उद्योग संघको साथ लाया है। वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से 500 से अधिक स्टार्टअप्स और इनोवेटर्स ने इस आयोजन में भाग लिया।

Leave a Reply