वाशिंगटन : अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बड़े बेटे डोनाल्ड ट्रंप जूनियर ने स्वीकार किया है कि जब वो अपने पिता के राष्ट्रपति चुनाव अभियान के दौरान जून 2016 में रूसी अटॉर्नी से मिले थे तो उन्होंने कुछ चीज़ें अलग ढंग से कर दी थीं.

रूसी सूत्र के साथ हुई बैठकों के बारे में जानकारी साझा किए जाने के बाद इस तरह का उनका ये पहला बयान है. ट्रंप जूनियर ने पूरी जानकारी को ‘इंटायर ईमेल चेन’ बताया है.

ख़बर के मुताबिक ट्रंप जूनियर ने बताया है कि उनके पास आए एक मेल में कहा था कि हिलेरी क्लिंटन के बारे में उनके पास ऐसी जानकारी है जो हिलेरी पर लगे आरोपों और रूस के साथ उनके संपर्कों को सही साबित करेगी और ये जानकारी उसके पिता के लिए काफी उपयोगी होगी.

ट्रंप जूनियर की म्यूजिक पब्लिसिस्ट रॉब गोल्डस्टोन ने रूसी सूत्र और उनके बीच बैठक कराने में मध्यस्थ की भूमिका निभाई थी. वहीं एक अन्य मेल में गोल्डस्टोन ने लिखा है कि ये सूचना तत्कालीन रिपब्लिकन राष्ट्रपति उम्मीदवार ट्रंप के साथ उनके लंबे समय से सहयोगी रहे रोना ग्राफ के ज़रिए साझी की जा सकती है.

ट्रंप जूनियर ने अपने बयान में कहा कि गोल्डस्टोन के साथ उनकी बैठक 9 जून 2016 को हुई थी और पहला मेल 3 जून 2016 को आया था.

ट्रंप जूनियर ने इस बैठक को कुछ ख़ास नहीं बताते हुए कहा कि वास्तव में ये बैठक समय खराब करने जैसी और शर्मनाक थी.