पटना : पूर्व उपमुख्यमंत्री व भाजपा के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी ने कहा है कि भाजपा तेजस्वी यादव के भ्रष्टाचार के खिलाफ नीतीश कुमार द्वारा लिये गये स्टैंड के साथ है. नीतीश कुमार ने भी इसके पहले अनेक मुद्दों पर भाजपा और केंद्र सरकार का समर्थन किया है.

राजनीति और लठैती का फर्क मिटा चुके लालू प्रसाद को लग रहा है कि अपने 80 विधायकों की लाठी के बल पर वह नीतीश कुमार को झुका देंगे. जदयू को भी लग रहा है कि सरकार गिरने के डर से लालू प्रसाद झुक जायेंगे. सरकार गिरने से दोनों पक्ष डरे हुए हैं इसलिए उनके बीच शह-मात का खेल चल रहा है. मोदी ने कहा कि गठबंधन के दोनों दलों के बीच जारी गतिरोध का खामियाजा पूरा बिहार भुगत रहा है. शासन-प्रशासन का सारा काम ठप हैं. जदयू-राजद के बीच जल्द से जल्द आर-पार का फैसला होना चाहिए.

तेजस्वी यादव को लालू प्रसाद ने फंसा दिया. अगर उनको लंबी राजनीति करनी है तो आरोपमुक्त होने तक उन्हें खुद इस्तीफा दे देना चाहिए. अपने पिता लालू प्रसाद के साये से बाहर निकल कर उन्हें ऐलान करना चाहिए कि जब वे नासमझ थे तब अपने पिता के कहने पर अनेक कंपनियों के कागजात पर दस्तख्त कर दिये.

तथा उनके नाम से जो भी जमीन-मकान गिफ्ट कराये गये हैं उन्हें वे वापस कर देंगे. तेजस्वी को लालू प्रसाद नहीं बल्कि शरद यादव का अनुसरण करना चाहिए जिन्होंने हवाला कांड में नाम आने के तत्काल बाद लोकसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था.
जदयू विधायक दल की बैठक में कुछ नेताओं ने बयान दिये हैं. इन सबने नीतीश कुमार के नेतृत्व में आस्था दिखाते हुए पार्टी की एकजुटता पर कायम रहने की बात कही.पीएचइडी मंत्री कृष्णनंदन वर्मा ने कहा, थोड़े दिन में मिल जायेंगे सभी सवालों के जवाब. विधायक श्याम बहादुर सिंह ने कहा कि उपमुख्यमंत्री तेजस्वी को इस्तीफा दे देना चाहिए. विधायक पूनम यादव ने कहा, हम नीतीश कुमार के साथ एकजुट हैं. विधायक मनीष कुमार ने कहा, सीएम नीतीश कभी सिद्धांतों से समझौता नहीं करते हैं.