चान्हो: चान्हो के बेतलंगी गांव में आर्थिक तंगी के कारण संजय मुंडा नामक किसान के फांसी लगाकर आत्महत्या कर लेने की जानकारी मिलने पर दूसरे दिन गुरुवार को उसके परिजनों से मिलने के लिए सरकारी पदाधिकारियों व जन प्रतिनिधियों का तांता लगा रहा. जिला कृषि पदाधिकारी अशोक कुमार सिन्हा, आत्मा के उपनिदेशक संजय कुमार के अलावा मांडर विधायक गंगोत्री कुजूर, राजद के प्रदेश अध्यक्ष गौतम सागर राणा, प्रवक्ता डॉ मनोज कुमार, जिला अध्यक्ष आबिद अली, पूर्व सासंद मनोज कुमार सहित कई अन्य लोग बेतलंगी गांव पहुंचे थे.
उन्होंने मृतक किसान के पिता चंदुल मुंडा व उनकी तीनों पुत्रियों से घटना की जानकारी ली. उन्हें ढाढ़स बंधाया. इस दौरान विधायक गंगोत्री कुजूर ने परिजनों से कहा कि हम सभी आप के साथ हैं. किसी भी कारण से एक व्यक्ति की जान चली जाती है तो यह छोटी बात नहीं है. आत्महत्या जैसे कार्य से दूसरों का भी मनोबल गिरता है. हमारी सरकार ऐसे मामलों में संवेदनशील है.
चान्हो की घटना की जानकारी मिलने के फौरन बाद ही मुख्यमंत्री ने संजय मुंडा के परिजनों को दो लाख रुपये देने की घोषणा की है. जिसे 21 जुलाई को उसके पिता चंदुल मुंडा को दे दिया जायेगा. राजद प्रदेश अध्यक्ष गौतम सागर राणा ने झारखंड में किसानों में बढ़ रही आत्महत्या की प्रवृत्ति को चिंताजनक बताया. कहा यहां आकर जो जानकरी मिली है उसके अनुसार संजय मुंडा अपने खेत में बिचड़ा लगाना चाह रहा था, लेकिन बिचड़ा नहीं लगा पाया था. उसे दो साल से सब्जी की खेती में भी लगातार नुकसान हो रहा था.
इसलिए व्यथित होकर उसने आत्महत्या की है. राणा ने इस तरह की घटना पर रोक लगाने के लिए सरकार को किसानों की काउंसेलिंग शुरू कराने की सलाह दी. कहा कि कृषि घाटे का सौदा बन गया है. इसे मुनाफा लायक बनाने के लिए सरकार को समूचे झारखंड में को-अॉपरेटिव सेक्टर को सक्रिय करना होगा. किसान के घर तक लैंपस व पैक्स पहुंचेगा तब किसान उनसे अपनी समस्या शेयर करेंगे, तो समस्या का निराकरण भी होगा.