उत्तर प्रदेश : अवध शिल्‍पग्राम में आयोजित ‘हुनर हाट’ का 29 लाख से अधिक लोगों ने दौरा किया

लखनऊ : अवध शिल्‍पग्राम, लखनऊ (उत्तर प्रदेश) में आयोजित ‘हुनर हाट’ का 22 जनवरी से 7 फरवरी, 2021 तक 29 लाख से अधिक लोगों ने दौरा किया। वे करोड़ों रुपये मूल्‍य के स्‍वदेशी कारीगरों और शिल्‍पकारों के हस्‍त निर्मित उत्‍पादों को खरीद कर ‘वोकल फॉर लोकल’ अभियान के स्‍वाभिमानी प्रवर्तक बन गए।

अवध शिल्‍पग्राम में हुनर हाट के आज अंतिम दिन लखनऊ में मीडिया कर्मियों के साथ बातचीत करते हुए केन्‍द्रीय अल्‍पसंख्‍यक कार्य मंत्री श्री मुख्‍तार अब्‍बास नकवी ने कहा कि एक ओर देश के लगभग हर क्षेत्र के हस्‍त निर्मित उत्तम उत्‍पाद उपलब्‍ध थे तो दूसरी ओर आगंतुकों ने देश के विभिन्‍न हिस्‍सों के पारंपरिक व्‍यंजनों का भी आनंद उठाया।

श्री नकवी ने कहा कि अल्‍पसंख्‍यक कार्य मंत्रालय द्वारा लखनऊ में आयोजित इस हुनर हाट में 31 राज्‍यों और केन्‍द्र शासित प्रदेशों के कारीगरों और शिल्‍पकारों ने भाग लिया। आंध्र प्रदेश, असम, बिहार, चंडीगढ़, छत्तीसगढ़, दिल्ली, गोवा, गुजरात, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, झारखंड, कर्नाटक, केरल, लद्दाख, मध्य प्रदेश, मणिपुर, नगालैंड ओडिशा, पुदुचेरी, पंजाब, राजस्थान, सिक्किम, तमिलनाडु, तेलंगाना, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और पश्चिम बंगाल आदि के लगभग 500 कारीगर और शिल्‍पकार अपने उत्तम हस्तनिर्मित उत्पादों के प्रदर्शन और बिक्री के लिए तथा पाक विशेषज्ञ अपने व्‍यंजनों के लिए लखनऊ के हुनर हाट में आए।

स्वदेशी उत्पाद जैसे अजरख, अप्लीक, आर्ट मेटल वेयर, बाग प्रिंट, बाटिक, बनारसी साड़ी, बांधेज, बस्तर कला और हर्बल उत्‍पाद, ब्लॉक प्रिंट, ब्रास मेटल चूड़ियां, बेंत और बांस के उत्पाद, केनवॉस पेंटिंग, चिकनकारी, कॉपर बेल, सूखे फूल हैंडलूम टेक्सटाइल, कलमकारी, मंगलगिरी, कोटा सिल्क, लॉक की चूडि़या, चमड़े के उत्पाद, पश्मीना शॉल, रामपुरी वायलिन, लकड़ी और लोहे के खिलौने, कांथा कढ़ाई, पीतल के उत्पाद, क्रिस्टल ग्लास वस्‍तुएं, चंदन लकड़ी के उत्‍पाद, लकड़ी और बेंत फर्नीचर आदि लखनऊ हाट में उपलब्‍ध थे।

श्री नकवी ने कहा कि लखनऊ की हुनर हाट वर्चुअल और ऑनलाइन मंच http://hunarhaat.org पर भी उपलब्‍ध थी। देश और विदेश के लोगों ने हुनर हाट के उत्‍पादों की प्रशंसा की और डिजिटल और ऑनलाइन खरीदारी भी की। अब हुनर हाट जीईएम (गवर्नमेंट ई-मार्केट प्‍लेस) पोर्टल पर भी उपलब्‍ध हैं।

श्री नकवी ने कहा कि ‘हुनर हाट’ के माध्‍यम से पिछले छह वर्षों के दौरान 5 लाख से अधिक कारीगरों,‍ शिल्‍पकारों और उनसे जुड़े लोगों को रोजगार तथा रोजगार के अवसर उपलब्‍ध हुए हैं।

श्री नकवी ने कहा कि देश के जाने-माने कलाकारों ने हुनर हाट में आत्‍मनिर्भर भारत थीम पर रोजाना विभिन्‍न सांस्‍कृतिक कार्यक्रम प्रस्‍तुत किए हैं। श्री कैलाश खेर (30 जनवरी) श्री विनोद राठौर (28 जनवरी); श्री सुदेश भोंसले (06 फरवरी); श्री मोहित खन्ना (22 जनवरी); श्री भूप्पि (23 जनवरी); सुश्री रेखा राज (24 जनवरी); सुश्री रानी इंद्राणी (25 जनवरी); हमसार हयात ग्रुप (26 जनवरी); श्री अमनदीप सिंह (27 जनवरी); श्री प्रेम भाटिया (29 जनवरी); सुश्री शिबानी कश्यप (31 जनवरी); शर्मा सिस्टर्स (1 फरवरी); श्री आलमगीर खान (2 फरवरी); श्री मुकेश पंचोली (3 फरवरी); श्री एहसान कुरैशी (4 फरवरी) तथा अन्य कलाकारों ने अपने संगीत के कार्यक्रमों से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया।

श्री नकवी ने कहा कि 25वीं हुनर हाट महाराजा कॉलेज ग्राउंड चामाराजपुरम मैसूरु (कर्नाटक) में 06 से 14 फरवरी, 2021 तक आयोजित की जा रही है। आने वाले दिनों में हुनर हाट, नई दिल्ली (20 फरवरी से 01 मार्च 2021 तक), कोटा (28 फरवरी से 7 मार्च 2021 तक), जयपुर, चंडीगढ़, इंदौर, मुंबई, हैदराबाद, रांची, सूरत / अहमदाबाद, कोच्चि, पुदुचेरी और अन्य स्थानों पर आयोजित की जाएगी।

Leave a Reply