महिला क्रिकेट वर्ल्डकप ले गयी इंग्लैंड की टीम

लंदन : भारतीय महिला क्रिकेट टीम का वर्ल्ड कप जीतने का सपना एक बार फिर टूट गया. मैच में एक ऐसा भी वक्त आया जब भारत पूरी तरह से इंग्लैंड पर हावी था लेकिन आखिरी के 7 ओवरों में मैच का रुख पलट गया और इंग्लैंड टीम ने एक बार फिर वर्ल्ड कप पर कब्जा करने में कामयाब रही.

मध्यम गति की गेंदबाज अन्या श्रबसोले के कातिलाना स्पैल के सामने भारत ने रविवार को यहां अपने आखिरी सात विकेट 28 रन के अंदर गंवाये जिससे इंग्लैंड ने फाइनल में शानदार वापसी का बेजोड नमूना पेश किया और आखिर में नौ रन से जीत दर्ज करके चौथी बार आईसीसी वर्ल्ड कप कप जीता जिससे भारतीय फैंस के हाथ निराशा लगी.

टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी के लिये उतरे इंग्लैंड ने लाड्र्स की धीमी पिच पर सजग शुरुआत की लेकिन बीच में उसने 16 रन के अंदर तीन विकेट गंवा दिये. सराह टेलर (45) और नताली सीवर (51) ने चौथे विकेट के लिये 83 रन जोडकर टीम को इन झटकों से उबारा लेकिन ऐसे मौके पर झूलन की शानदार गेंदबाजी से उसने फिर से 18 रन के अंदर तीन विकेट गंवाये.

आखिर में कैथरीन ब्रंट (34) और जेनी गुन (नाबाद 25) के प्रयासों से इंग्लैंड सात विकेट पर 228 रन तक पहुंचने में सफल रहा. भारत ने पूनम राउत (115 गेंदों पर 86 रन) और सेमीफाइनल की नायिका हरमनप्रीत कौर (80 गेंदों पर 51 रन) ने तीसरे विकेट के लिये 95 रन की साझेदारी की. इसके बाद वेदा कृष्णमूर्ति (35) की उपयोगी पारी से भारत एक समय तेजी से जीत की तरफ बढ रहा था लेकिन श्रबसोले ने यहीं गेंद संभाली और मैच का पासा पलट दिया.

भारत का स्कोर 43 ओवर में तीन विकेट पर 191 रन था और उसे जीत के लिये 38 रन की दरकार थी लेकिन आखिर में उसकी पूरी टीम 48.4 ओवर में 219 रन पर ढेर हो गयी. श्रबसोले ने 46 रन देकर छह विकेट लिये जो उनके करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है. यह दूसरा अवसर है जबकि भारतीय महिला टीम विश्व कप के फाइनल में हारी. इससे पहले 2005 में आस्ट्रेलिया ने उसे विश्व चैंपियन बनने से रोका था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *