अज्ञात गुमशुदा तलाश ग्रुप के चलते कानपुर से गायब वृद्धा दो वर्ष बाद परिजनों से मिली

प्रयागराज। सोशल मीडिया के अज्ञात गुमशुदा तलाश के ग्रुप एडमिन की सक्रियता के चलते कानपुर से गायब एक बृद्ध महिला दो वर्ष बाद अपने परिजनों से मिली। महिला को पाते ही उसके परिजन ग्रुप एडमिन मोहम्मद आरिफ की भूरि भूरि प्रशंसा करते हुए अपने घर ले गए।
उन्नाव जिले के नगर कोतवाली क्षेत्र में स्थित छपियान मोहल्ला निवासी फरीमा 65 वर्ष पत्नी जहीर उर्फ लाले का परिवार वर्तमान में कानपुर के बजरिया थाना क्षेत्र में नाला रोड पर रह रही थी। जहां से वह 2019 में होली के दिन अचानक घर से गायब हो गई। परिवार के लोग उसकी खोजबीन करने के बाद थकहार गए। लेकिन जब दुबारा मिलने का दीदार लिखा तो ईश्वर के घर में देर है अन्धेर नहीं है।
गौरतलब है कि 4/2/2021 को आद्योगिक थाना क्षेत्र के मुंगारी गांव निवासी जय विजय नारायन विश्वकर्मा को फरीमा दुकान के सामने दिखाई दी। जय विजय नारायन ने उस वृद्धा का बीडियों बनाया और अज्ञात गुमशुदा तलाश के एडमिन मोहम्मद आरिफ से सम्पर्क करके उन्हें दिया और उसके परिवार तक सूचना देने के लिए निवेदन किया। फिर क्या था समाजसेवी मोहम्मद आरिफ बीडियों पाते ही उसके परिजनों तक पहुंचने के लिए अपने ग्रुप के माध्यम से सोशल मीडिया में डाला एवं कानपुर एवं उन्नाव जनपद के अपने कुछ परिचितों को वृद्धा का बीडिया दिया। हालांकि उनकी मेहनत रंग लायी। 7/2/2021 की शाम कानपुर से उसके परिवार के लोगों ने समाजसेवी मोहम्मद आरिफ से सम्पर्क किया और प्रयागराज पहुंचे। मोहम्मद आरिफ उसके परिवार के लोगों को लेकर औद्योगिक के मुंगारी गांव पहुंचे और उसकी पहचान करायी। उसकी पहचान के लिए उसका पति एवं बेटा भल्लू एवं नन्द चांद बीबी ने उसे पाते ही भावविभोर हो गए और समाजसेवी को बार-बार धन्यवाद देते हुए उसे लेकर कानपुर चले गए।

Leave a Reply