अहमदाबाद: गुजरात में मंगलवार को होने वाला राज्यसभा चुनाव सत्ताधारी भाजपा और विपक्षी पार्टी कांग्रेस के लिए प्रतिष्ठा का प्रश्न बन गया है. भाजपा कांग्रेस की तरफ से मैदान में उतरे अहमद पटेल का रास्ता रोकने के तगड़ी रणनीति बनाई है.

गुजरात में राज्यसभा की तीन सीटों के लिए मंगलवार को मतदान होगा. इन तीन सीटों में से दो सीट बीजेपी को मिलनी तय हैं. असल झगड़ा तीसरी सीट को लेकर है. इस पर कांग्रेस के अहमद पटेल प्रमुख उम्मीदवार हैं. अहमद पटेल ने दावा किया है कि उनकी जीत पक्की है.

राज्यसभा चुनाव की अधिसूचना जारी होने के बाद से ही नाटकीय राजनीतिक घटनाक्रम जारी हैं. पहले वरिष्ठ कांग्रेसी नेता शंकरसिंह वाघेला ने पार्टी छोड़ी, फिर आधा दर्जन पार्टी विधायकों ने इस्तीफा दे दिया. अंत में एनसीपी ने भी नाटकीय क्रम में कांग्रेस की सांसें फुलाईं. रविवार की रात एनसीपी ने मीडिया में बयान दिया कि उनकी पार्टी किसी की सहयोगी नहीं है. एनसीपी के इस नए रुख से कांग्रेस नेतृत्व हैरान रह गया.

हालांकि सोमवार को कांग्रेस के लिए राहत की खबर आई. सूत्रों के मुताबिक, गुजरात राज्‍यसभा चुनाव में एनसीपी कांग्रेस को वोट देगी. प्रफुल्‍ल पटेल व्हिप जारी करेंगे. इतना ही नहीं प्रफुल्ल पटेल के गुजरात जाने के भी आसार हैं.