रांची: केंद्र सरकार ने देश भर के उन प्रखंडों का डाटा तैयार किया है, जहां के कई गांवों में अब तक बिजली नहीं पहुंच सकी है तथा वहां केरोसिन का इस्तेमाल अधिक होता है. झारखंड के 59 ऐसे प्रखंड चिह्नित किये गये हैं.  इन प्रखंडों में रहनेवाले गांवों के 5.63 लाख स्कूली बच्चों को पढ़ने के लिए सोलर स्टडी लैंप दिये जाने हैं.

कुल 600 रु मूल्य वाले इस लैंप में केंद्र सरकार 500 रुपये की छूट दे रही है. इस तरह लाभुक बच्चे के अभिभावकों को सिर्फ सौ रुपये देने होंगे.  इस तरह करीब 28 करोड़ की सब्सिडी पहले चरण के लैंप वितरण में दी जायेगी. ग्रामीण विकास विभाग से संबद्ध झारखंड राज्य आजीविका विकास सोसाइटी (जेएसएलपीएस) इस कार्यक्रम का क्रियान्वयन कर रही है. पहले चरण में बंटने वाले कुल लैंप में से करीब तीन लाख की प्रखंडवार वितरण सूची तैयार की गयी है. अभी खूंटी, गुमला व लातेहार जिले के सात प्रखंडों में 9137 लैंप असेंबल हुए हैं तथा इनमें से 4042 का वितरण हो चुका है. वहीं 2.63 लाख लैंप का वितरण इसके बाद किया जायेगा.  इनमें साहेबगंज, लोहरदगा, रांची, गुमला, सिमडेगा, खूंटी, प सिंहभूम व दुमका के 22 प्रखंडों के गांव शामिल होंगे.

 पहले चरण का वितरण (करीब तीन लाख लैंप)
  • दुमका : गोपीकांदर व काठीकुंड (17629) व शिकारीपाड़ा (17985).
  • पाकुड़ : पाकुड़िया (13861), अमरापाड़ा (9539) व लिट्टीपाड़ा (13510).
  • प सिंहभूम : टोंटो व खुंटपानी (19590) तथा टाटानगर व मंझरी (17578).
  • खूंटी : अड़की, मुरहू, खूंटी व रनिया (33040).
  • सिमडेगा : ठेठईटांगर व बोल्बा (18377),
  • गुमला : बिशुनपुर व घाघरा (26234), अल्बर्ट एक्का (जारी), चैनपुर व रायडीह (22807), पालकोट (12467) तथा कामडारा व बसिया (20761).
  • लातेहार : बरवाडीह व गारू (22372), महुआडांड़ (10514), तथा सिसई व भरनो (30510).