नयी दिल्लीः देश भर में सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के कर्मचारी 22 अगस्त को यानी आज हड़ताल पर हैं. इसका आह्वान यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस (यूबीएफयू) ने किया है. अखिल भारतीय पंजाब नेशनल बैंक अधिकारी संघ ने भी इसका समर्थन किया है. सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में वेतन पुनरीक्षण मामले, नयी नियुक्तियों को लेकर यह हड़ताल बुलायी गयी है.

संघ की ओर से इंडियन बैंक एसोसिएशन द्वारा गलत फैसले लिये जाने का भी विरोध किया गया है. संघ के अधिकारियों ने इससे पहले भी अपनी मांगों को लेकर 19 जुलाई को देश भर में बैंक कर्मी सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को बचाने के नारे के साथ रैली, प्रदर्शन और काला बिल्ला लगा कर काम करने का ऐलान किया था. इसके बाद 15 सितंबर को नयी दिल्ली में एक लाख बैंक कर्मी रैली करेंगे. अक्तूबर और नवंबर में भी लगातार दो दिनों तक बैंकों में हड़ताल रहेगी. इसकी तिथियां बाद में घोषित की जायेंगी.

बैंक कर्मियों ने भारतीय रिजर्व बैंक और केंद्र के अनुरूप पेंशन की सुविधा देने की भी मांग की है. यूनाइटेड फोरम की मुंबई में आयोजित बैठक में इंडियन बैंक एसोसिएशन की ओर से अधिकारी संघ की मांगों पर अंकुश लगाये जाने का भी विरोध किया गया. स्केल-3 से लेकर स्केल-7 के अधिकारियों के वेतन पुनरीक्षण की मांग को स्वीकृत करने का आग्रह भी संघ की तरफ से किया गया है.