गोरखपुर: उत्तर प्रदेश के गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में बच्चों की मौत का सि‍लसिला थमता नज़र नहीं आ रहा है. इस मेडिकल कॉलेज में बीते 48 घंटों में 42 बच्चों की मौत हो चुकी है. हालांकि मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ पीके सिंह के मुताबिक इस मौसम में यहां हर साल ऐसे ही हालात रहते हैं.

गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज के अस्पताल में इलाज़ के लिए आने वाले बच्चों की मौत के आंकड़े चौंकाने वाले हैं. कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ पीके सिंह खुद बताते हैं, ‘’बीआरडी अस्पताल में 27 और 28 अगस्त के दौरान 48 घंटे में 42 बच्चों की मौत हो चुकी है. इनमें सात बच्चों की मौत इंसेफेलाइटिस यानी दिमागी बुखार से हुई है.’’

अस्पताल में बड़ी संख्या में बीमार बच्चे आ रहे हैं

डॉ पीके सिंह के मुताबिक, इन दिनों अस्पताल में बड़ी संख्या में बीमार बच्चे आ रहे हैं. उनका कहना है कि अस्पताल में इस वक्त ऑक्सीजन और दवाओं की कोई कमी नहीं है. लेकिन कई बच्चों की सेहत अस्पताल आने तक इतनी बिगड़ चुकी होती है कि डॉक्टर पूरी कोशिश के बावजूद उन्हें बचा नहीं पा रहे. डॉक्टर पीके सिंह के मुताबिक, गोरखपुर में जुलाई, अगस्त और सितंबर के महीनों में हर साल हालात इतने ही खराब होते हैं.

पूर्व प्रिंसिपल और उनकी पत्नी को हिरासत में

बीआरडी कॉलेज गोरखपुर के पूर्व प्रिंसिपल और उनकी पत्नी को बच्चों की मौत के मामले में मंगलवार को यूपी स्पेशल टास्क फोर्स (STF) ने पूछताछ के लिए कानपुर से हिरासत में लिया. इस महीने की शुरूआत में मेडिकल कालेज में 48 घंटे में 60 बच्चों की मौत के बाद उत्तर प्रदेश सरकार ने प्रदेश के मुख्य सचिव की अध्यक्षता में एक कमेठी गठित की थी, जिसकी रिपोर्ट के बाद इस मामले में प्राथमिकी दर्ज की गयी थी और इन दोनों का नाम इसमें था.

बता दें कि गोरखपुर के इसी अस्तपाल में 10 से 12 अगस्त के बीच ऑक्सीजन की कमी होने से 36 बच्चों की मौत हो गई थी. हालांकि राज्य सरकार इस बात से इनकार करती आई है.