लखनऊ : केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पांच सितंबर को लखनऊ मेट्रो सेवा की शुरूआत करेंगे. राजनाथ सिंह और योगी ट्रांसपोर्ट नगर मेट्रो स्टेशन से मेट्रो ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर रवाना करेंगे. जनता के लिए मेट्रो सेवा हालांकि अगले दिन से शुरू होगी. मेट्रो की शुरूआत होने से लखनऊ की सडकों पर यातायात का दबाव कम होने की उम्मीद है. परियोजना के पहले चरण के तहत मेट्रो ट्रांसपोर्ट नगर से चारबाग के बीच चलायी जा रही है. यह सेवा सुबह छह बजे से रात दस बजे तक जनता के लिए उपलब्ध होगी.

पांच सितंबर के कार्यक्रम में केन्द्रीय गृह मंत्री की उपस्थिति भाजपा की ओर से मजबूत संकेत होगा कि केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार ने परियोजना के लिए अधिकांश धन मुहैया कराया है. विधानसभा चुनाव के दौरान भाजपा ने लखनऊ मेट्रो को लेकर पूर्ववर्ती सपा सरकार पर निशाना साधा था. भाजपा ने सवाल किया था कि लखनऊ में मेट्रो अभी भी क्यों नहीं चल रही है.

लखनऊ मेट्रो परियोजना की शुरूआत 2013 में अखिलेश यादव सरकार ने की थी. लखनऊ मेट्रो को लेकर राजनीतिक बयानबाजी के बीच पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा था कि परियोजना को मेट्रो रेलवे सुरक्षा की ओर से सुरक्षा मंजूरी मिलनी बाकी है. उनका आरोप था कि केन्द्र मंजूरी में विलंब कर रहा है.

मंजूरी हाल ही में मिली और इस प्रकार मेट्रो के परिचालन का रास्ता तैयार हुआ. केन्द्र ने हाल ही में नयी मेट्रो रेल नीति को मंजूरी दी है, जिसके तहत ऐसी परियोजनाओं में निजी निवेश की व्यवस्था है ताकि भावी मेट्रो परियोजनाओं का काम तेजी से किया जा सके. बसपा सुप्रीमो मायावती ने इस नीति की आलोचना की थी.