पटना : राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद ने रैली की सफलता के बाद संयोजकों व कार्यकर्ताओं के साथ चाय पीया. उन्होंने पार्टी नेताओं को कहा कि वह सृजन घोटाले का जन-जन तक पहुंचाएं.

इस घोटाले में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी की जानकारी में पैसे का गबन किया गया है.

राजद सुप्रीमो मंगलवार को अपने आवास 10 सर्कुलर रोड में देश बचाओ देश बचाओ भाजपा भगाओ महारैली की सफलता पर राष्ट्रीय जनता दल के व्यवस्थापक मंडल के सदस्यों के सम्मान में टी पार्टी का आयोजन किया था.

टी पार्टी में प्रदेश अध्यक्ष डॉ रामचंद्र पूर्वे, मुंद्रिका सिंह यादव, सांसद जयप्रकाश यादव, तेज प्रताप यादव के अलावा संयोजक मंडल के सदस्यों में भाई अरुण कुमार, सत्येंद्र पासवान, के डी यादव, चितरंजन गगन, रामबली चंद्रवंशी, निराला यादव, देव मुनि सिंह यादव, ई अशोक यादव सहित सैकड़ों नेता कार्यकर्ता मौजूद थे.

नीतीश कुमार को नहीं दिखी रैली की भीड़ : राजद प्रमुख लालू प्रसाद ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को अपने अंदाज में जवाब दिया. उन्होंने कहा कि आरजेडी की रैली में आयी भीड़ नीतीश को नहीं दिखी.

दिन में भी कुछ पक्षियों को नहीं दिखता. उन्होंने बताया कि राजद की रैली को डिस्टर्ब करने की हर कोशिश की गयी. रैली चल रही थी और नीतीश बंद कमरे में भीड़ की जानकारी ले रहे थे.

भीड़ की गलत जानकारी देने पर स्पेशल ब्रांच को नीतीश कुमार ने फटकार लगायी. लालू प्रसाद ने कहा कि सृजन घोटाले में सीएम नीतीश फंसे हुए हैं.

नीतीश कुमार की पूरे घोटाले की जानकारी सालों से थी. पत्रकारों से बातचीत में राजद सुप्रीमो ने बताया कि पलटूराम नीतीश कुमार को पीएम मोदी और अमित शाह ने पूछा तक नहीं.

केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल करना तो दूर बीजेपी ने उन्हें सूंघा भी नहीं. जेडीयू के नेता तैयार होकर शपथ लेने का इंतजार करते रह गये. नीतीश बार बार राष्ट्रपति भवन से आने वाली सूचना की बाबत पूछते रहे .