मैं नौकरी मांगता तो आप यहां नहीं होते : यशवंत सिन्हा

नई दिल्ली : पूर्व वित्त मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता यशवंत सिन्हा और वित्त मंत्री अरुण जेटली के बीच जुबानी जंग थमने का नाम नहीं ले रही है. अब यशवंत सिन्हा ने जेटली पर पलटवार करते हुए कहा है कि अगर मैं नौकरी मांगता तो अरुण जेटली वहां नहीं होते, जहां वो आज हैं. असल चिंता की बात ये है कि सरकार समस्या को समझने की बजाय खुद की तारीफ करने में जुटी है.

जेटली के साथ-साथ यशवंत सिन्हा ने अपने बेटे जयंत सिन्हा पर निशाना साधा. उन्होंने कहा, मैंने जो सवाल खड़े किए अगर जयंत सिन्हा उसका जवाब देने में इतने सक्षम है, तो उन्हें वित्त मंत्रालय से क्यों हटाया गया. मैंने सात बजट पेश किए हैं और वो (जयंत) इतने समर्थ हैं तो उन्हें वित्त राज्य मंत्री के पद से क्यों हटाया गया.

इससे पहले जेटली ने यशवंत सिन्हा को 80 साल की उम्र में नौकरी का उम्मीदवार बताया था. उन्होंने ‘INDIA @ 70, MODI @ 3.5′ के विमोचन पर आए वित्त मंत्री ने कहा कि इस किताब का नाम अगर JOB APPLICANT @80’ होता तो ज्यादा उपयुक्त होता. जाहिर है कि उनका सीधा इशारा पूर्व वित्तमंत्री यशवंत सिन्हा की ओर था.

उन्होंने कहा था कि उदारीकरण के बाद 2000 से 2003 तक वित्त मंत्री के तौर पर यशवंत सिन्हा का कार्यकाल बदतर था और तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को उन्हें हटाना पड़ा था. अरुण जेटली ने सिन्हा के साथ-साथ कांग्रेस नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी.चिदंबरम पर भी निशाना साधा. यशवंत सिन्हा के लेख लिखने के बाद चिदंबरम ने भी उसका हवाला देते हुए मोदी सरकार और जेटली पर अर्थव्यवस्था को चौपट करने का आरोप लगाया था.

जेटली ने कहा था कि शायद ये दोनों नेता एक-दूसरे के बारे में बोले गए कड़वे बोल भूल गए हैं. उन्होंने याद दिलाया कि एक ने दूसरे के बारे में कहा था कि चिदंबरम को वित्त मंत्री के तौर पर उनके रिकॉर्ड की बराबरी करने के लिए दूसरा जन्म लेना पड़ेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *