मुंबई : रेलवे स्टेशन पर भगदड़, 22 की मौत

मुंबई : मुंबई में शुक्रवार सुबह दो रेलवे स्टेशनों को जोड़ने वाले एक संकरे फुटओवर ब्रिज पर मची भगदड़ में कम से कम 22 लोगों की मौत हो गयी. 30 से ज्यादा लोग घायल हो गये.

पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि हादसा सुबह करीब 10:40 बजे हुआ. उस वक्त भारी बारिश हो रही थी और फुटओवर ब्रिज पर खासी भीड़ थी. यह पुल एल्फिंस्टन रोड और परेल उपनगरीय रेलवे स्टेशनों को जोड़ता है. बारिश से बचने के लिए बड़ी संख्या में लोग एकत्र हो गये थे.

लाखों लोग क्षेत्र में स्थित कॉर्पोरेट और मीडिया कार्यालयों के साथ ही व्यावसायिक केंद्रों तक पहुंचने के लिए इस पुल का उपयोग करते हैं. बड़ी संख्या में लोग सीढ़ियों और दशकों पुराने इस संकरे पुल पर फंस गये. इससे कई लोगों की मौत दम घुटने के कारण हो गयी. नीचे प्लेटफाॅर्म पर खड़े लोग बेबस होकर हादसा देख रहे थे. कई लोगों ने रेलिंग पर चढ़कर अपनी जान बचाने का प्रयास किया.

इस रास्ते पर वर्षों से यात्रा कर रहे किशोर ठक्कर ने कहा कि उस समय भारी बारिश हो रही थी और लोग जल्दी से पुल से उतरने का प्रयास कर रहे थे. वहीं ट्रेनों से उतरनेवाले यात्री पुल पर चढ़ने की कोशिश कर रहे थे.

फडणवीस ने ट्वीट किया है, मुंबई के एल्फिंस्टन रेलवे स्टेशन के फुटओवर ब्रिज पर मची दुर्भाग्यपूर्ण भगदड़ के बारे में जानकर बहुत दुखी हूं.अपने प्रियजनों को खोने वालों और प्रभावित होने वालों के लिए मेरा मन बहुत दुखी है. उन्होंने लिखा है, मुख्य सचिव और मुंबई के पुलिस आयुक्त से बात की. उन्हें तत्काल अस्पताल पहुंचने और मामले की निगरानी करने तथा सभी को सहायता सुनिश्चित करने को कहा है. केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल मुंबई पहुंच गये हैं और मामले पर नजर रख रहे हैं.

मदद के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी किये गसे हैं. (24136051/ 24107020/ 24131419). राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने मुंबई में भगदड़ में हुई मौतों पर दुख जताया है. इधर मुंबई पुलिस ने ट्वीट करके कहा कि KEM अस्पताल में भर्ती घायलों को A negative, B negative और AB negative blood की जरूरत है. शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे भी हादसे वाली जगह पर पहुंचे और हालात का जायजा लिया.

उन्होंने कहा, ‘हमने छह महीने पहले ही रेलवे प्रशासन को एक पत्र सौंपकर यहां की खराब स्थिति को सुधारने के लिए कुछ कदम उठाने का अनुरोध किया था. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने हादसे पर शोक जताते हुए मारे गये लोगों के परिजनों के प्रति संवेदनाएं व्यक्त की हैं.

मृतकों के परिजनों के लिए 10-10 लाख रुपये के मुआवजे की घोषणा की गयी है. रेल मंत्री पीयूष गोयल और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने पांच-पांच लाख रुपये की मुआवजा राशि की घोषणा की है. इस हादसे के लिए बारिश के साथ ही शॉट सर्किट को भी कारण बताया जा रहा है. कई यात्रियों ने कहा कि किसी न किसी दिन यह हादसा होना ही था.

रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) के महानिरीक्षक अतुल श्रीवास्तव ने कहा, ‘एल्फिंस्टन स्टेशन के ओवर ब्रिज पर बहुत भीड़ थी. बारिश के कारण वहां फिसलन भी हो गयी थी. इससे अफरा-तफरी का माहौल बन गया और भगदड़ मच गयी.’ रेलवे के प्रवक्ता अनिल सक्सेना ने कहा, ‘अचानक बारिश होने के कारण, लोग स्टेशन पर इंतजार कर रहे थे. जब बारिश रुकी, तो लोग जल्दी वहां से निकलने लगे, जिससे अफरा-तफरी मच गयी. पुलिस को यह संदेह भी है कि फुटओवर ब्रिज के पास तेज आवाज के साथ हुए शॉट सर्किट के कारण लोगों में दहशत फैल गयी और वे भागने लगे. इसी कारण भगदड़ मच गयी.’

बृहन्मुंबई महानगरपालिका के आपदा प्रबंधन प्रकोष्ठ के प्रमुख महेश नारवेकर ने कहा कि मृतकों में आठ महिलाएं और एक किशोर शामिल हैं. घायलों में से पांच की हालत गंभीर है.

सुबह ही मुंबई पहुंचे रेल मंत्री पीयूष गोयल ने मुंबई में 100 अतिरिक्त उपनगरीय सेवाओं का उद्घाटन कार्यक्रम रद्द कर दिया और हादसे के उच्चस्तरीय जांच के आदेश दिये हैं. पश्चिमी रेलवे के मुख्य सुरक्षा अधिकारी इस जांच का नेतृत्व करेंगे.

रेल मंत्री गोयल ने मृतकों के परिजनों को पांच लाख रुपये के अलावा गंभीर रूप से घायलों को एक लाख रुपये और अन्य घायलों को 50,000 रुपये की सहायता राशि देने की घोषणा की है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्विटर पर लिखा, ‘मुंबई में हालात पर लगातार नजर रखी जा रही है. पीयूष गोयल मुंबई में हैं और हरसंभव सहायता सुनिश्चित कर रहे हैं.’ बृहन्मुंबई महानगरपालिका के आपदा नियंत्रण कक्ष के अनुसार, परेल के केईएम अस्पताल में 22 शव लाये गये हैं.

रेलवे, पुलिस और दमकल विभाग के अधिकारी मौके पर राहत एवं बचाव कार्य में जुट गये. पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी रवींद्र भाकर ने कहा, ‘हालांकि, प्लेटफॉर्म की सीढ़ियों पर भीड़ को नियंत्रित करने के लिए सुरक्षाकर्मी तैनात थे, लेकिन बहुत ज्यादा भीड़ के कारण यह दुर्भाग्यपूर्ण हादसा हुआ. भाकर के अनुसार, तकनीकी तौर पर यह रेल संबंधी हादसा नहीं है, लेकिन पीड़ितों को रेलवे के नियमों के अनुसार सहायता राशि दी जायेगी.

रेलवे के एक अधिकारी ने कहा कि भगदड़ के तुरंत बाद पीड़ितों की सहायता के लिए चिकित्सा ट्रेन मौके पर भेजी गयी. गोयल ने संवाददाताओं से बातचीत करते हुए कहा कि उनकी संवेदनाएं शोक संतप्त परिवारों के साथ हैं और मेरी मुंबई में ऐसी घटना गंभीर चिंता का विषय है. उन्होंने कहा कि ऐसी घटनाओं की पुनरावृति रोकने के लिए हम प्रतिबद्ध हैं.

निवेशकों के साथ बैठकों के लिए सिंगापुर में मौजूद मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने ट्वीट किया कि महाराष्ट्र सरकार और रेल मंत्रालय द्वारा मामले की जांच करायी जायेगी तथा सख्त कार्वाई की जायेगी. उन्होंने कहा कि घायलों के इलाज का खर्च सरकार उठायेगी. मुंबई पुलिस ने लोगों से रक्तदान करने की अपील की है.

मुंबई पुलिस ने ट्वीट किया है, ‘एल्फिंस्टन भगदड में घायल लोगों के लिए केईएम अस्पताल में ए नेगेटिव, बी नेगेटिव और एबी नेगेटिव रक्त की जरूरत है. कृपया केईएम के ब्लड बैंक से संपर्क करें.’ इस बीच, निगम के एक अधिकारी ने बताया कि 22 पीड़ितों में से 19 की पहचान कर ली गयी है.

अतिरिक्त निगम आयुक्त आइए कुंदन ने बताया कि दस्तावेजों की गहन जांच की गयी और अब तक 19 पीड़ितों की पहचान सुनिश्चित कर ली गयी है. उन्होंने बताया कि पीड़ितों की पहचान में सहूलियत के लिए केईएम अस्पताल में एक हेल्पडेस्क बनाया गया है. पीड़ितों के शवों का पोस्टमार्टम कराया जा रहा है. इसके बाद शव उनके परिवारों को सौंप दिये जायेंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *