तेजस्वी यादव नहीं देंगे इस्तीफा राजद विधायक दल का फैसला

पटना: राजद ने साफ कर दिया है कि सीबीआइ केस में अभियुक्त बने उपमुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव अपने पद से इस्तीफा नहीं देंगे. 10, सर्कुलर रोड पर सोमवार को राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद और पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी की मौजूदगी में पार्टी विधायक दल की बैठक में यह फैसला लिया गया. बैठक में राहुल तिवारी और संजय यादव को छोड़ कर बाकी सारे विधायक शामिल हुए. ये दोनों विधायक पटना से बाहर होने के कारण नहीं आ सके. करीब डेढ़ घंटे तक चली बैठक में विधायकों ने कहा कि वे अपने नेता के भावी कदम के साथ खड़े हैं. इधर रविवार को राजगीर से पटना पहुंचे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने देर रात राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद से टेलीफोन पर बातचीत की.

बुखार की हालत में आराम कर रहे मुख्यमंत्री ने लालू प्रसाद से कुशल क्षेम पूछा. राजद की बैठक के दौरान वरिष्ठ नेता जगदानंद सिंह ने इसकी पुष्टि की. बैठक में विधायकों ने 2019 के लोकसभा चुनाव की तैयारी और वैकल्पिक सरकार बनाने की दिशा में भावी कदम उठाने के लिए राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद को अधिकृत कर दिया. लालू राबड़ी आवास पर यह बैठक सुबह 10:30 बजे शुरू हुई. इसमें सारे वरिष्ठ नेता भी मौजूद रहे.

विधायकों ने एक स्वर से कहा कि सीबीआइ के मुकदमे के बाद भी उपमुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव इस्तीफा नहीं देंगे. बैठक के बाद पार्टी के वरिष्ठ नेता और वित्त मंत्री अब्दुल बारी सिद्दीकी ने बैठक में बनी सहमति की जानकारी दी. उन्होंने कहा कि विधायक दल की राय बनी है कि अभी उपमुख्यमंत्री के इस्तीफा देने का औचित्य नहीं है. दूसरी ओर पार्टी सूत्रों ने बताया कि अगर सीबीआइ उपमुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद को गिरफ्तार करने आती है, तो उसके पहले उनका इस्तीफा सरकार को भेज दिया जायेगा. बैठक में कहा गया कि महागठबंधन सरकार पर किसी तरह का कोई खतरा नहीं है. भाजपा की ओर से महागठबंधन में दरार पैदा करने की असफल कोशिश की जा रही है.सिद्दीकी ने बताया कि बैठक तीन मुख्य मुद्दों को लेकर आयोजित की गयी थी. पहला देश में चल रही वर्तमान राजनीतिक परस्थितियां, दूसरा राष्ट्रपति चुनाव और तीसरा 27 अगस्त को राजद की प्रस्तावित रैली. उन्होंने बताया कि बैठक में यह चर्चा हुई कि भाजपा देश में विद्वेष की राजनीति चला कर राज्य की सरकार को अस्थिर करने की कोशिश की जा रही है.

यह पहला अवसर नहीं है, जब लालू प्रसाद की हस्ती को मिटाने का प्रयास किया जा रहा है. सिद्दीकी ने कहा कि बैठक में यह कहा गया कि जब-जब लालू प्रसाद को मुसीबत में डाला गया, तब-तब पार्टी और ताकतवर होकर देश के सामने आयी. एक सवाल के जवाब में सिद्दीकी ने कहा कि राज्य में महागठबंधन किसी भी प्रकार से अस्थिर नहीं है. राज्य में महागठबंधन की सरकार है, न कि एक पार्टी की. उपमुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव के इस्तीफे को लेकर पूछे गये सवाल पर सिद्दीकी ने कहा कि बैठक में उपमुख्यमंत्री के कार्यों की सराहना की गयी. विधायकों ने विधानमंडल दल के नेता राबड़ी देवी और स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव के सहयोग की सराहना की.

साथ ही विधायकों  ने यह भी संकल्प लिया कि राजद नेता पर जो कुछ भी हो रहा है, वह सिर्फ उनके  नेता पर चोट नहीं है, बल्कि विधायक इसे अपने अस्तित्व पर चोट समझते हैं. इस  परिस्थिति में एकता बनाये रखने को संकल्पित हैं. बैठक में राजद  विधायकों ने उपमुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव के नेतृत्व की सराहना की  और कहा कि वह विधायक दल का सफल नेतृत्व कर रहे हैं.

बैठक में राजद प्रमुख लालू प्रसाद, राबड़ी देवी, उपमुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव, स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव, जगदानंद सिंह, जयप्रकाश यादव सहित सरकार में शामिल राजद कोटे के सभी मंत्री व विधायक शामिल थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *