वॉशिंगटन :अमेरिका के राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने बुधवार को नई इमिग्रेशन पॉलिसी का ऐलान किया जिससे भारतीयों समेत अन्य लोगों को मेरिट के आधार पर अमेरिका का ग्रीन कार्ड मिल सकता है। अमेरिका अगर रोजगार के लिए इमिग्रेशन के नए कानून को मंजूरी दे देता है तो इससे भारतीय युवाओं को सबसे ज्यादा फायदा होगा। दरअसल अमेरिका अपने यहां दूसरे देशों से आने वालों को ग्रीन कार्ड देने के लिए अभी तक लॉटरी सिस्टम अपनाता है, जिसे अब खत्म कर पॉइंट सिस्टम शुरू करने की तैयारी है।

इस ऐक्ट को रिफॉर्मिंग अमेरिकन इमिग्रेशन फॉर स्ट्रांग एंप्लॉयमेंट (RAISE) ऐक्ट कहा जा रहा है। रेज़ ऐक्ट के बाद उन भारतीयों को ग्रीन कार्ड हासिल करने में आसानी होगी जिन्हें अच्छी इंग्लिश बोलनी आती है, जो लोग अपना खर्च उठाने के लिए सक्षम हैं और जो अपने कौशल और प्रतिभा से अमेरिकी अर्थव्यवस्था को बढ़ावा दे सकते हैं। माना जा रहा है कि इस पैमाने पर भारतीय ही सबसे ज्यादा फिट बैठते हैं। ट्रंप ने कहा कि इससे गरीबी कम होगी और टैक्स देने वालों का पैसा भी बचेगा।

पॉइंट बेस्ड सिस्टम
लॉटरी सिस्टम की जगह अब सीधे पॉइंट बेस्ड सिस्टम आएगा जिसके माध्यम से अच्छी इंग्लिश बोलने की स्किल और पढ़ाई की पृष्ठभूमि को ध्यान में रखा जाएगा। ग्रीन कार्ड से लोगों को स्थायी निवास, काम करने का अधिकार और नागरिकता मिलती है। इस सिस्टम के अस्तित्व में आने के बाद किसी अमेरिकी कर्मचारी के साथ भी भेदभाव नहीं हो पाएगा। ट्रंप ने कहा कि अब ऐसा नहीं हो पाएगा कि कोई भी अमेरिका में आएगा और आसानी से पैसा कमाना शुरू कर देगा। अगर आपके पास स्किल है, तभी आप लोग यहां पर काम कर सकते हैं।