लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ दोनों उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या और डॉ. दिनेश शर्मा निर्विरोध विधान परिषद सदस्य निर्वाचित हो गए हैं। इनके साथ ही सुबे के परिवहन राज्य मंत्री स्वतंत्र देव सिंह को भी उच्च सदन में जाने का मौका मिला है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत चारों विजयी उम्मीदवारों के प्रमाणपत्र जारी कर दिया गया है।

उप मुख्यमंत्री केशव मौर्य प्रमाणपत्र लेने खुद पहुँचे

विधान परिषद सदस्य निर्वाचित होने के बाद विधान भवन में जाकर आज उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने अपना निर्वाचन प्रमाण पत्र प्राप्त किया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का निर्वाचन प्रमाण पत्र उनके विशेष कार्याधिकारी ने हासिल किया। उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा के साथ ही परिवहन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) स्वतंत्रदेव सिंह को अभी अपना-अपना निर्वाचन प्रमाण पत्र हासिल करना है।

किसके सीट पर कौन निर्वाचित

योगी आदित्यनाथ तो यशवंत सिंह की रिक्त सीट पर सदन में पहुंचे हैं। इनका कार्यकाल 6 जुलाई 2022 तक है। उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा को डॉ. अशोक बाजपेयी की सीट से विधान परिषद में जाने का मौका मिला है। इनका कार्यकाल 30 जनवरी 2022 तक है। बुक्कल नवाब के इस्तीफा देने से खाली सीट पर उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य विधान परिषद पहुंचे हैं। जिनका कार्यकाल छह जुलाई 2022 तक है। जबकि डॉ. सरोजनी अग्रवाल की रिक्त सीट पर परिवहन मंत्री स्वतंत्रदेव सिंह उच्च सदन पहुँचे हैं। इनका कार्यकाल 30 जनवरी 2022 तक है। इस्तीफ़ा देने वाले चारों लोग समाजवादी पार्टी से विधान परिषद सदस्य थे।

राज्य मंत्री मोहसिन रजा भी निर्विरोध निर्वाचित

चुनाव आयोग ने 24 अगस्त को चुनाव आयोग ने प्रदेश में एमएलसी की 4 सीटों पर उपचुनाव का कार्यक्रम घोषित किया था। इसके तहत 15 सितम्बर को चुनाव होना था। तब कयास लगाए थे कि भाजपा के किसी पांचवे मंत्री को इस्तीफा देना होगा। लेकिन इसी के ठीक दो दिन बाद बसपा एमएलसी ठाकुर जयवीर सिंह के इस्तीफ़े के बाद खाली हुई सीट पर भी उपचुनाव का कार्यक्रम घोषित कर दिया। इस एक सीट पर 18 सितम्बर को चुनाव होना है। 29 जुलाई 2017 को बसपा से एमएलसी ठाकुर जयवीर सिंह ने इस्तीफा दिया था। इनका कार्यकाल पांच मई 2018 तक है।

विधान परिषद के उप चुनाव के तहत 31 अगस्त को उपचुनाव की अधिसूचना जारी की गई। इसके नामांकन की अंतिम तिथि सात सितंबर थी। नामांकन पत्रों की जांच आज थी। नाम वापसी का समय 11 सितंबर को रखा गया है। विधान परिषद का उप चुनाव 18 सितंबर को सुबह 9 बजे से 4 बजे तक होगा। इसी दिन शाम को पांच बजे से मतगणना होगी। 20 सितंबर को इसकी प्रक्रिया समाप्त हो जाएगी।